covid-19Hindi

चौका देंगे आपको कोरोना के सिरो सर्वे के आंकड़े

चौका देंगे आपको कोरोना के सिरो सर्वे के आंकड़े

File Photo

23 July Vaodara : केंद्र सरकार ने देश के 11 सबसे ज्यादा कोरोना प्रभावित शहरों के कंटेनमेंट जोन में सिरो सर्वे किया।जिसके नतीजे बताते हैं कि अहमदाबाद में सबसे ज्यादा लगभग 49 फीसदी लोग कोरोना की चपेट में आए।दिल्ली में हुए सेरो सर्वे के नतीजे केंद्र सरकार ने मंगलवार को जारी किए।जिसमें पाया गया कि 23.48 फीसदी लोग कोरोना की चपेट में आ चुके हैं।दिल्ली में रैंडम सैंपलिंग के आधार पर सर्वे हुआ।

दिल्ली के अलावा केंद्र सरकार ने देश के 11 शहरों के कंटेनमेंट जोन में सर्वे कराया। ये वो शहर हैं जहां कोरोना के बड़ी संख्या में केस आये हैं।सर्वे के नतीजे बताते हैं कि अहमदाबाद के कंटेनमेंट जोन में सबसे ज्यादा लोग कोरोना से प्रभावित हुए हैं।अहमदाबाद के बाद मुंबई और आगरा के कंटेनमेंट जोन में भी बड़ी तादाद में लोग कोरोना की चपेट में आए।

*अहमदाबाद में 496 टेस्ट हुए जिसमें 48.99% लोगों में एंटीबॉडी पाया गया।

* मुंबई में 495 टेस्ट हुए जिसमें 36.56 % लोगों में एंटीबॉडी पाया गया।

* आगरा में 500 टेस्ट हुए जिसमें 22.80% लोगों में एंटीबॉडी पाया गया।

* पुणे में 504 टेस्ट हुए जिसमें से 19.84 % लोगों में एंटीबॉडी पाया गया।

* साउथ-ईस्ट दिल्ली में 501 टेस्ट किए गए जिसमें 52 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आयी, यानी कि 10.37% लोगों में एंटीबॉडी पाया गया।

* जबकि सूरत, जयपुर, इंदौर, चेन्नई, हैदराबाद और जोधपुर में 8 फीसदी से कम लोग कोरोना की चपेट मे आए। ये सर्वे मई के तीसरे हफ्ते में हुए।

कोरोना से हुए संक्रमण का अंदाजा लगाने के लिए केंद्र सरकार ने देश के इन 11 प्रभावित शहरों के कंटेनमेंट जोन में सेरो सर्वे करवाया था। जिसका मकसद ये अंदाजा लगाना था कि इन जगहों की आबादी पर कोरोना का कितना असर हुआ है।

दो स्तरों पर किया गया सर्वे

पूरे देश से ऐसे लोगों के खून के नमूनों की जांच की गई, जो कोरोना से संक्रमित नहीं हुए थे। सर्वे दो स्तरों पर किया गया। पहले स्तर में इनमें कोरोना के संक्रमण से बचे हुए और उससे प्रभावित दोनों तरह के जिलों को लिया गया। जिसकी रिपोर्ट तैयार हो गई है। दूसरे स्तर पर कोरोना संक्रमण से बुरी तरह प्रभावित कंटेनमेंट इलाकों से नमूने लिए जा रहे हैं और यह प्रक्रिया अभी भी जारी है। जाहिर है सिरो-सर्वे की रिपोर्ट कंटेनमेंट एरिया से बाहर से इलाकों पर आधारित है।

कोरोना को लेकर दुनिया का सबसे बड़ा सर्वे

नीति आयोग के सदस्य और कोरोना से निपटने की तैयारियों के लिए गठित उच्चाधिकार प्राप्त ग्रुप-एक के प्रमुख डॉक्टर वीके पॉल ने कहा कि कोरोना को लेकर यह दुनिया का सबसे बड़ा सर्वे है, जिसमें देश के 736 जिलों को चार भागों में बांटकर उनमें से 83 जिलों में 26,400 लोगों के नमूनों की जांच की गई। इन जिलों को कोरोना के संक्रमण से बिल्कुल अछूते, कम संक्रमण, मध्यम संक्रमण और उच्च संक्रमण वाले चार भागों में बांटा गया। वैसे उन्होंने यह भी साफ कर दिया कि सर्वे के लिए मई के शुरू में लिये गए थे। यानी इससे 30 अप्रैल तक देश में कोरोना के फैलने का संकेत मिलता है।

क्या है सिरो-सर्वे

सिरो-सर्वे किसी इलाके में किसी वायरस की मौजूदगी का पता लगाने का तरीका है। इसमें वहां के चयनित लोगों के खून के सैंपल की जांच कर उस वायरस से संबंधित एंटीबॉडी का पता लगाया जाता है। दरअसल जैसे ही कोई नया वायरस किसी व्यक्ति के शरीर में प्रवेश करता है, तो उसके शरीर में उस वायरस से लड़ने के लिए एंटीबॉडी बनाना शुरू हो जाता है। वायरस के खत्म हो जाने के बाद भी यह एंटीबॉडी उस व्यक्ति के खून में बरकरार रहता है। इससे यह पता लग जाता है कि कभी-न-कभी यह व्यक्ति उस वायरस से ग्रसित हुआ है। कोरोना वायरस की मौजूदगी का पता लगाने के लिए भी यही तकनीक देश के विभिन्न शहरों में अपनाई गई।आने वाले दिनों में हर महीने सिरो टेस्ट दिल्ली में किए जाने का ऐलान दिल्ली सरकार पहले ही कर चुकी है।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close