श्रीलंका की आर्थिक स्थिति गंभीर!!!

Image Source : twitter

31 March 2022

भारत का दक्षिणी पड़ोसी देश श्रीलंका अपनी आजादी के बाद से अब तक का सबसे गंभीर आर्थिक संकट झेल रहा है। यहां महंगाई दर 17% के पार पहुंच चुकी है। 1 कप चाय भी 100 रुपए पर पहुंच गई है। ब्रेड के एक पैकेट के लिए 150 श्रीलंकाई रुपए देने पड़ रहे हैं। श्रीलंका में महंगाई बढ़ने का एक मुख्य कारण डॉलर के मुकाबले श्रीलंकाई रुपए का कमजोर होना भी है। मार्च महीने में ही डॉलर के मुकाबले श्रीलंकाई रुपए की वैल्यू 46% गिरी है।
मार्च में ही 1 डॉलर की वैल्यू 201 श्रीलंकाई रुपए से बढ़कर 295 श्रीलंकाई रुपए पर पहुंच गई है। इससे श्रीलंका में महंगाई बढ़ रही है। आज हम आपको बता रहे हैं कि डॉलर के मुकाबले किसी भी देश की मुद्रा की कीमत कैसे तय होती है, और डॉलर के मुकाबले उस मुद्रा के कमजोर होने से क्या होता है।

फॉरेक्स (फॉरेन एक्सचेंज) मार्केट में रुपए के बदले विभिन्न देशों की मुद्राओं की लेन-देन की दर तय होती है। डॉलर के मुकाबले यदि रुपए में घट-बढ़ होती है तो इसका सीधा असर फॉरेक्स मार्केट पर दिखता है, क्योंकि इसी के आधार पर देश के लोग विदेशी बाजारों से लेन-देन करते हैं। साथ ही सबसे पहले निर्यातक और आयातक प्रभावित होते हैं। हर देश के अपने फॉरेक्स मार्केट होते हैं, लेकिन सभी एक ही तरह से काम करते हैं।

श्रीलंकाई रुपए कमजोर होने से बढ़ रही महंगाई

श्रीलंका या कोई भी देश अपने जरूरत की वस्तुएं या तो खुद बनाते हैं या उन्हें विदेशों से आयात करते हैं और विदेशों से कुछ भी आयात करने के लिए आपको उन्हें डॉलर में चुकाना पड़ता है।
उदाहरण के तौर पर यदि किसी देश से आप तेल का आयात करना चाहते हैं तो उसका भुगतान आप रुपए में नहीं कर सकते। उसके लिए आपको अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्य किसी मुद्रा का प्रयोग करना होगा। तो इसका मतलब ये है कि श्रीलंका को भुगतान डॉलर में करना होगा। ऐसे में डॉलर के मुकाबले आपकी श्रीलंका का रुपया जितना कमजोर होगा श्रीलंका में बाहर से आयात होने वाली चीजों की कीमत उतनी बढ़ेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Whatsapp