भारत में वैलनेस केंद्रों पर मिलेगी ‘ई-संजीवनी’ की सुविधा

Image Source: Twitter

16 April 2022

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने कहा कि देशभर में 16 अप्रैल से एक लाख आयुष्मान भारत-हेल्थ एंड वेलनेस केंद्रों पर टेली परामर्श सुविधा ‘ई-संजीवनी’ की शुरुआत हुई है।

मांडविया ने इस पर ट्वीट किया कि अब आम नागरिक भी देश के बड़े डॉक्टरों से सलाह ले पाएंगे। आयुष्मान भारत हेल्थ एंड वेलनेस सेंटरों की चौथी वर्षगांठ के अवसर पर 16 अप्रैल से एक लाख केंद्रों पर ई-संजीवनी टेली परामर्श की सुविधा शुरू की जा रही है। प्रधानमंत्री के आयुष्मान भारत के संकल्प को ये केंद्र सिद्ध कर रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, मार्च के अंत तक देशभर में 1,17,440 केंद्र संचालित हो रहे थे जबकि लक्ष्य 1.1 लाख का ही था।

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से देश भर में स्वास्थ्य योजनाओं को बढ़ाने के लिए 2018 में आयुष्मान भारत- स्वास्थ्य देखभाल केंद्र योजना की शुरुआत की गई थी।

अब यह योजना अपने चार वर्ष पूरा कर चुकी है, जिसके तहत देश भर में 17000 ऐसे स्वास्थ्य देखभाल केंद्रों की स्थापना की गई है, जहां गैर संक्रामक रोगों की जांच की सुविधा उपलब्ध है और ये आम आदमी की पहुंच के दायरे में हैं।

सबसे अहम बात यह है कि इन स्वास्थ्य देखभाल केंद्रों ने अपनी सेवाओं का विस्तार करते हुए दूरस्थ सलाह टेली कंसल्टेशन की प्रक्रिया अपनाते हुए विशेषज्ञों की सलाह देने का कार्य शुरू किया है। इस प्रकार के प्रयास, समुदाय के लोगों को स्वास्थ्य को लेकर जागरूक बनने की प्रवृति में तेजी से बदलाव ला रहे हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी के लिए स्वास्थ्य के उद्देश्य को पूरा करने के लिए आयुष्मान भारत-स्वास्थ्य देखभाल केंद्र योजना की शुरुआत 14 अप्रैल 2018 को की थी और इस वर्ष 14 अप्रैल को इस योजना ने अपने चार वर्ष पूरे किए। इस समय देश में 7000 से अधिक स्वास्थ्य देखभाल केंद्र क्रियाशील है और 7500 से अधिक टेली कंसल्टेशन सेवाएं प्रदान कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Whatsapp