पहली बार मनमोहन सिंह ने करवाई थी हिंदी दिवस मनाने की शुरुआत

10-01-2023, Tuesday

दुनियाभर में आज 10 जनवरी को विश्व हिंदी दिवस मनाया जा रहा है। विश्व हिंदी दिवस मनाने का उद्देश्य भाषा को बढ़ावा देने के लिए है। इसी दिन 10 जनवरी को पहली बार संयुक्त राष्ट्र महासभा में हिंदी बोली गई थी। विश्व हिंदी दिवस और हर साल 14 सितंबर को मनाए जाने वाले राष्ट्रीय हिंदी दिवस से अलग है। भारत की संविधान सभा ने 1949 में हिंदी को भारत की आधिकारिक भाषाओं में से एक के रूप में अपनाया और मान्यता दी है।

पहली बार 2006 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के आदेश पर विश्व हिंदी दिवस मनाया गया था। 10 जनवरी को ही क्यों विश्व हिंदी दिवस मनाया जाता है, तो बता दें कि 10 जनवरी की तारीख विश्व हिंदी दिवस के लिए इसलिए चुनी गई क्योंकि 1949 में इसी दिन संयुक्त राष्ट्र महासभा में पहली बार हिंदी बोली गई थी।

1975 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने हिंदी विद्वानों, लेखकों और पुरस्कार विजेताओं को एक साथ लाने के लक्ष्य के साथ विश्व हिंदी सम्मेलन की स्थापना की थी, जिन्होंने भाषा के विकास में योगदान दिया है और उनके प्रयासों को महत्व दिया है। अब देश के हालिया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी हिंदी भाषा को विश्व फलक पर मशहूर करने के लिए प्रयासरत है।

Whatsapp