डिजिटल इंडिया में डिजिटल ID प्रूफ ही अमान्य,मतदान के लिए 45 मिनिट बैठे रहे कीर्तिदान गढ़वी

01-12-2022, Thursday

मतदार जागृति कैंपेन के ब्रांड एम्बेसडर कीर्तिदान गढ़वी को मतदान देने के लिए एक घंटा इंतजार करना पड़ा। क्योंकि उनके पास आधार कार्ड की हार्ड कॉपी नहीं थी। इस मुद्दे उन्होंने रोष व्यक्त किया कि डिजिटल इंडिया सफल होना संभव नहीं।

आज सौराष्ट्र राजकोट के पास आए माधापार मतदान केंद्र पर प्रसिद्ध डायरा गायक कलाकार कीर्ति दान गढवी अपना मतदान करने पहुंचे ।यहां पर अधिकारियों ने उनके मोबाइल में मौजूद आधार कार्ड की कॉपी को मान्य ना रखते हुए उनसे आधार कार्ड की हार्ड कॉपी प्रूफ के रूप में मांगी। और उन्हें तकरीबन 45 मिनट तक आधार कार्ड की हार्ड कॉपी मंगाने तक मतदान के लिए इंतजार करना पड़ा।उन्होंने कहा कि यह बात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक पहुंचाई जानी चाहिए। क्योंकि एक तरफ प्रधानमंत्री डिजिटल इंडिया की बात करते हैं, आज अधिकतम लोग भी इस और मुड़ रहे हैं ,और लगभग लोग डिजिटली ही काम करने लगे है। ऐसे में यदि इतने बड़े देश की चुनाव प्रक्रिया के दौरान डिजिटल आईडी प्रूफ मान्य नहीं है तो, डिजिटल इंडिया कैंपेन सफल नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि उनके जैसे सेलिब्रिटी लोगों को भी अगर इसी तरह की परिस्थितियों का सामना कर परेशान होना पड़ता है ,तो आम नागरिक का क्या ?ऐसे में पहली बार यदि कोई मतदाता मतदान कर रहा है, और उसके पास हार्ड कॉपी का प्रूफ नहीं है ,तो क्या उसे वापस जाना होगा? कीर्ति दान गढवी मतदान जागृति कैंपेन के ब्रांड एंबेसडर है ।उनका कहना है कि चुनाव के दौरान वैकल्पिक दस्तावेज भी चुनाव आयोग द्वारा मान्य किए गए हैं।

Whatsapp