कल से महंगी हो जाएंगी कई चीजें!!!

Image Source : Getty Images

31 March 2022

कल यानी कि 1 अप्रैल से टेक्सटाइल, रियल एस्टेट सहित कई सेक्टरों में सेवाओं के चार्ज व वस्तुओं के दाम बढ़ जाएंगे। सूरत कपड़ा मंडी में लग्नसरा और रमजान सीजन की तेजी का असर दिखने लगा है। इसे देखते हुए प्रोसेसर्स के बाद अब ट्रांसपोर्टरों ने भी किराया बढ़ाने की घोषणा कर दी है।
प्रोसेसर्स एसोसिएशन ने 1 अप्रैल से प्रोसेसिंग चार्ज में 10 प्रतिशत की वृद्धि करने का निर्णय लिया है। वहीं दूसरी ओर टेक्सटाइल गुडस ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन ने भी 1 अप्रैल से 15 से 20 प्रतिशत तक ट्रांसपोर्ट चार्ज बढ़ाने का निर्णय लिया है। सूरत टेक्सटाइल गुड्स ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन ने बताया कि 1 अप्रैल से ट्रांसपोर्ट चार्ज में 15 से 20 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी करने का फैसला लिया गया है। इसी तरह रियल एस्टेट में बिल्डरों ने घर की कीमतों में 25 फीसदी इजाफा करने की तैयारी कर ली है।

50 किलो तक का ही पार्सल बनाने की अपील
युवराज देसले ने कहा कि जब से बॉक्स और पार्सल पर ट्रांसपोर्ट का भाव तय हुआ है, तब से व्यापारियों ने पार्सल की साइज बढ़ा दी है। पार्सल का वजन 90 से 120 किलो तक कर देते हैं, जिसे उठाने में दिक्कत होती है। उन्होंने व्यापारियों से अपील की है कि पार्सल अधिकतम 50 किलो तक का ही बनाएं। उससे ज्यादा के पार्सल नहीं उठाएंगे।

ट्रांसपोर्टरों की बैठक में लिया गया किराया बढ़ाने का निर्णय
सूरत टेक्सटाइल गुड्स ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष युवराज देसले ने कहा कि 26 मार्च को द्वारकाधीश ट्रांसपोर्ट नगर में ट्रांसपोर्टरों की बैठक हुई थी। इसमें विशेष रूप से बिहार और उत्तर प्रदेश के लिए पार्सल ले जाने वाले ट्रांसपोर्टरों ने मांग की थी कि पिछले दो महीने में पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ गए हैं। हर वर्ष की तरह होली के बाद शादी-विवाह की बुकिंग तेज हो जाती है। होली पर गाड़ियों की कमी हो जाती है। इससे कई ट्रांसपोर्टरों को बुकिंग बंद करनी पड़ती है। पेट्रोल-डीजल के दामों में लगातार वृद्धि को देखते हुए 1 अप्रैल से ट्रांसपोर्ट चार्ज बढ़ाने का निर्णय लिया है।

रियल एस्टेट: मटेरियल के भाव बढ़ने से घर की कीमतें बढ़ेंगी

रियल एस्टेट में बिल्डरों ने भी घर की कीमतें बढ़ाने की तैयारी की है। बीते एक महीने में रूस और यूक्रेन के बीच चल रहे युद्ध के कारण लोहे के कच्चे माल-सामान की कीमतें बढ़ने से सरिया की कीमत 20 रुपए प्रति किलो बढ़ गई है। इसी तरह से यातायात खर्च बढ़ने, मजदूरी बढ़ने सहित अन्य कारणों से सीमेंट, इस्पात, इलेक्ट्रिक आईटम सहित रियल एस्टेट से जुड़ी अन्य चीजों की कीमतों में 25 प्रतिशत का ईजाफा हुआ है। इसके प्रति वर्गफीट लागत 200 से 300 रुपए बढ़ गई है। बिल्डरों का कहना है कि लागत बढ़ गई है। अब 1 अप्रैल से घर की कीमतें बढ़ाने की तैयारी है। इस बारे में बिल्डर्स भी लोगों को यह समझा रहे हैं।
टेक्सटाइल के लिए ट्रेन चलाने की करेंगे मांग

होली से पहले ट्रेन के माध्यम से रोज 25 से 30 ट्रक माल विभिन्न शहरों में भेजा जाता था। रेलवे ने 15 मार्च 2022 से टेक्सटाइल पार्सल के लिए गुड्स ट्रेन बंद कर दी। अब ऑटोमोबाइल सेक्टर के लिए ट्रेन चल रही है। ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन का कहना है कि रेलवे राज्यमंत्री दर्शना जरदोष से टेक्सटाइल गुड्स ट्रेन चलाने की मांग करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Whatsapp